हरे मटर केवल ठंड के मौसम में खाने को मिलते है वाकी 8 से 10 महीने के लिए देखने को भी नहीं मिलते है ऐसे में यदि आपका मन ताजे मटर खाने का हो तो आप ठंडी के मौसम में आने वाले ताजे मटर को स्टोर करके रख सकते है।

स्टोर किये गए मटर को आप एक साल तक आराम से स्तमाल कर सकते है ताजे हरे मटर को स्टोर करना बहुत ही आसान है बस थोड़ी सी मेहनत कर लो और जब चाहे तब हरे मटर का आनंद घर में ही ले लो बाहर से दुगने दाम पर खरीदने की जरूरत ही नहीं है तो चलिए अब जानते है घर में हरे मटर कैसे स्टोर करे।

मटर को स्टोर करने के लिए सामग्री

  • हरे मटर : 1 Kg
  • शक्कर : 3 चम्मच
  • साधारण पानी : 1 लीटर
  • ठंडा पानी : 1 लीटर
  • बर्फ : 1 कटोरी
  • पतीला : 1 मटर को उबालने के लिए
  • सूती का कपड़ा : मटर हवा में फैलाने के लिए
  • एक परात या प्लेट : मटर को रखने के लिए
  • छेद वाला चमचा : मटर को गर्म पानी से बाहर निकालने
  • जिपर या पॉलोथिन : मटर को स्टोर करने के लिए
  • गैस या कोई भी आंच : मटर को उबालने के लिए

मटर स्टोर करने की विधि

मटर को ताजा और हरा बनाये रखने के लिए सबसे पहले सही मटर का चुनाव करना जरूरी होता है क्योकि मटर की फल्ली अलग-अलग तरह की होती है जिसमे कुछ मटर छोटे होते है कुछ बड़े होते है। इसीलिए आप रश्मि या मधु किस्म के मटर को स्टोर करे तो ज्यादा बेहतर होगा क्योकि इस किस्म के मटर में रेशेदार इल्ली नहीं होती है।

आपको ज्यादा पके हुए मटर नहीं लेने है क्योकि ये मीठे नहीं होते है कम्पनिया तब मटर स्टोर करती जब मटर के दाम बाजार बहुत कम होते है और मटर की क्वालिटी बहुत ही घटिया होती है।

आपको मीठे मटर का चुनाव करके फल्ली में से बाहर निकालना है उसके बाद मटर के बीज में से छोटे मटर अलग करना है बड़े मटर अलग करके रखने है क्योकि छोटे मटर ज्यादा मीठे होते है तो खराब होने का डर रहता है।

जब मटर अलग-अलग हो जाए तो एक पतीले में एक लीटर पानी और तीन चम्मच शक्कर डाल कर उबाल ले जब पानी उबल जाए तो बड़े मटर को पानी में डाल दे और दो मिनट पानी के साथ उबाल ले।

दो मिनट बाद गैस बंद कर गैस बंद करने के बाद एक खुले मुँह वाले बर्तन में ठंडा पानी और बर्फ डाल दे अब चमचे से मटर भी निकाल कर ठंडे पानी के बर्तन में डालते जाए ऐसा करने से मटर का रंग हरा रहेगा।

10 मिनट बाद प्लेट या परात में सूती कपड़ा फैला कर डाल दे अब मटर को भी उस परात में निकाल ले और 1 घंटे तक मटर को ऐसे ही रखा रहने दे ताकि सारा पानी कपड़े द्वारा सोख लिया जाए।

1 घंटे बाद मटर को आप खा के चेक कर सकते है कैसे है, मटर का टेस्ट मीठा होगा क्योकि हमने इसमें शक्कर का इस्तमाल किया है यदि मटर अभी मीठे है तो बाद में भी मीठे ही रहेंगे।

मटर को खा करने के बाद छोटे-छोटे जिपर बैग या छोटी-छोटी पॉलीथिन में भर दे, जब आप पॉलीथिन या जिपर को बंद करेंगे तो उसके अंदर हवा का एक भी कण नहीं होना चाहिए नहीं तो ये हवा के कण मटर को ख़राब कर देंगे।

जिपर में मटर भरने के बाद उसे अच्छे से बंद भी कर ताकि जिपर के अंदर हवा न जा सके अब जिपर को फ्रिज रखे दे।

इस विधि से आप जितने चाहे उतने मटर फ्रिज में स्टोर कर सकते है आप जब भी जिपर निकालोगे तो उसके पहले जिपर को 5 मिनट के लिए साधरण पानी डाल दे ताकि बर्फ पिघल जाए और मटर साधारण अवस्था में आ जाए।

मटर को स्टोर करने लिए आवश्यक सुझाव

मटर के छोटे बड़े दानो को जरूर अलग कर ले नहीं तो छोटे मटर मीठे होते है मीठे होने के कारण सारे मटर खराब कर देंगे।

मटर उबालने के बाद ठंडे पानी में जरूर डाले ठंडे पानी से मटर का रंग बिल्कुल हरा रहता है।

ठंडे पानी से निकालने के बाद मटर को 1 घंटे से कम समय के लिए भी हवा में सूखा सकते है बस पानी पूरी तरह सुख जाना चाहिए।

आप छोटे जिपर का इस्तमाल करे ताकि जब आप मटर सब्जी बनाने के लिए निकालेंगे तो एक या दो बार में जितने मटर इस्तमाल कर सके उतने ही एक जिपर बैग में भरे ताकि वाकी की मटर हवा से सुरक्षित रहे।

जिपर में पैक करने के बाद जिपर से सारी हवा जरूर निकाल दे, यदि जिपर में हवा रहेगी तो मटर कुछ दिन में ख़राब हो जायेगे।

ये भी जाने –

इस विधि से आप साल भर के लिए मटर स्टोर करके रख सकते है और पूरे साल ताजे मटर का स्वाद घर की बनी सब्जी में ला सकते है।

आशा करती हूँ आपको मेरी ये पोस्ट पसंद आई होगी यदि पसंद आई हो तो आपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे ताकि जिन लोगो मटर खाने के शौकीन होते है वह भी इस विधि से घर मटर को स्टोर करके रख सके। क्योकि मार्किट में मिलने वाली यही मटर दुगने दाम पर मिलती है।

कृपया शेयर करे !