दोस्तों इस आर्टिकल में आप जानेगे कोको पाउडर क्या है और इसे खाने से होने वाले फायदे और नुकसान।

कोको पाउडर सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है क्योकि कोको पाउडर बनाने के लिए अच्छी किस्म के कोको बीज का इस्तमाल किया जाता है और कोको पाउडर बनाने के पहले बीज से फेट और कोको बटर की पूरी तरह से हटा दिया जाता है।

कोको पाउडर कोको बीज से बनता है कोको पाउडर का इस्तमाल सबसे पहले चॉकलेट बनाने में किया गया है लेकिन अब कोको पाउडर से बहुत से व्यंजन बनाये जाते है।

बच्चे कोको पाउडर से बने केक, चॉकलेट, बिस्किट और चॉकलेट चिप्स बहुत पसंद करते है कुछ लोगो को तो ये भी पता नहीं होता है की कोको पाउडर और चॉकलेट दोनों अलग-अलग है उन्हें यह लगता है की चॉकलेट से कोको पाउडर बनाया जाता है ऐसा नहीं है कोको बीज को अच्छे से साफ करके कोको पाउडर बनाया जाता है और उसी से चॉकलेट बनाई जाती है।

कोको पाउडर हमारे शरीर को फायदे मंद भी होता है और अधिक खाने से ये हमारे शरीर पर अपना दुष्प्रभाव भी दिखता है तो चलिए इसे खाने से होने वाले फायदे और नुकसान दोनों के बारे में भी जानते है ताकि सही मात्रा में कोको पाउडर इस्तमाल करे।

कोको पाउडर में पाए जाने वाले पोषक तत्व, विटामिन और मिलनर

पोषक तत्व विटामिन मिलनर
प्रोटीनथियामिनआयरन
फाइबरनियासिनफास्फोरस
फैटविटामिन-बी 6कैल्शियम
कार्बोहाइड्रेटराइबोफ्लेविनपोटेशियम
शुगरपैंटोथैनिक एसिडसोडियम
ऊर्जाफोलेटकॉपर
पानीसिलेनियम
जिंक

कोको पाउडर खाने के फायदे

मोटापा कम करने में

मोटापा के लिए कोको पाउडर का इस्तमाल करना बहुत फायदेमंद होता है क्योकि कोको बीज में पाए जाने वाले फेट और बटर को पूरी तरह से बाहर निकाल दिया जाता है।

मोटापा बढ़ने का सबसे बड़ा कारण शरीर में वसा का बढ़ना है जो कोको पाउडर में नाम मात्र के लिए भी नहीं होता है।

अस्तमा से बचने में

अस्तमा रोग होने वाले व्यक्ति को सास लेने में दिक्क्त होती है कोको पाउडर में पाए जाने वाले यौगिक ब्रोंकियल ऐस्पैसम को आराम करने और संकुचित ब्रोन्कियल ट्यूब को खोलने में सहयोग करती है जिससे सास लेने में आसानी होती है।

मानशिक शक्ति बढ़ाने में

कोको पाउडर से बने व्यंजन खाने से मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह बड़ जाता है जिससे स्मृति से जुडी कार्य पर बहुत अच्छा प्रवाह पड़ता है।

कोको का सही मात्रा में सेवन करने से नाड़ी से जुडी समस्या भी खत्म हो जाती है, यदि शुगर के मरीज है तो आपको इसका सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए यदि आप शुगर के मरीज है तो बाजार में कई तरह के कोको पाउडर मिलते है जिन मे से कुछ कोको पाउडर में अधिक मात्रा में शुगर का इस्तमाल किया जाता है और आप उन में से किसी भी कोको पाउडर का उपयोग खाने में कर रहे है तो आपकी सेहत के लिए सही नहीं होते है।

ह्रदय को स्वस्थ रखने में

कोको पाउडर में प्रोजनिडिन कैटेचिन और एपिकेचिन नामक फ्लेवोनोएड्स यौगिक पाए जाते है जिनमे ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते है।

यही ऑक्सीडेंट गुण ह्रदय मजबूत बनाने में मदद करते है इसके आलावा कोको पाउडर में फ्लेवोनाइड्स भी पाया जाता है जिसका प्रभाव प्लेट्लेटलेट पर पड़ता है।

दांतो की बेहतर सफाई

फेट फ्री कोको में पाए जाने वाले कैफीन और थेओब्रोमाइन से दांतो में होने वाले कैरीज को रोका जा सकता है इसके आलावा कोको में टैनिन भी पाया जाता है जो कुछ हद तक ही कैरीज को कम करने में मदद करता है।

त्वचा को चमकदार बनाने में

रिसर्च के अनुसार कोको में उपस्तिथ फ्लैवनॉल युवी किरणों के प्रभाव को कम कर करती है जिससे हमारी त्वचा स्वस्थ रहती है।

कोको पाउडर का इस्तमाल पेस्ट बना कर चेहरे पर लगाया जाये तो इससे स्केलिंग और खुरदुरा पन ठीक हो जाता है।

ड्रिप्रेशन से बचने

ड्रिप्रेशन में जाने के कई कारण हो सकते है ऐसे ही कभी-कभी लोग मौसम के परिवर्तन की वजय से जैसे सुस्ती रहना रोज के कार्यो में मन न लगना ऐसा सबसे ज्यादा मौसम के परिवर्तन के कारण होता है।

कोको पाउडर में ऐसे लक्षण पाए जाते है जो तनाव स्तर को कम करते है और शन्ति, संतोष और समग्र मूड और अवसाद को सकारात्मक प्रभाव बढ़ाता है।

कैंसर कोशिकाओं की बृद्धि को रोकना

कोको पाउडर में फ्लेवनॉल और प्रोजनिडिन नामक यौगिक होते है जो कैंसर कोशिकाओं के विकाश को रोकती है और हमारे शरीर को कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से हमारी रक्षा करती है।

बालो से डेंड्रफ हटाने के लिए

बहुत से कोको पाउडर का पेस्ट बना सख्त बालो की जड़ो में लगाते है उनका मानना होता है की इसे बालो में लगाने से डेंड्रफ ख़त्म हो जाती है।

कोको पाउडर खाने होने वाले नुकसान

ह्रदय गति तेज हो जाना

जब कैफीन अधिक मात्रा में सेवन करने से हमारे शरीर में रक्त का संचार तेजी से होने लगता है जिससे हमारे ह्रदय की गति तेज हो जाती है और ह्रदय से संबंधित कई समस्या होना शुरू हो जाती है।

नींद कम आना

कोको पाउडर में कैफीन अधिक होने के कारण यदि अधिक मात्रा में कोको पाउडर का इस्तमाल किया जाए तो तनाव बढ़ने लगता है जिसका असर हमारी आँख की कोशिकाओं पर पड़ता है जिससे कम नींद आने की समस्या हो जाती है।

उल्टी आना और बैचेनी होना

कोको पाउडर से कुछ लोगो को एलर्जी होती है इसीलिए जब वह कोको पाउडर का सेवन करते है तो उन्हें उल्टी और मतली होने के साथ बैचेनी होती है इसीलिए उन्हें कोको पाउडर का सेवन नहीं करना चाहिए।

ये भी जाने –

कोको पाउडर से बने व्यंजन – चॉकलेट, केक, मिल्क सेक, अंडे वाला चॉकलेट केक, चॉकलेट और केले का लोफ, खजूर और नट कोकोनट बॉल्स, चॉकलेट आइसक्रीम, चॉकलेट बटर कुकीज आदि।

कोको पाउडर में बहुत से ऐसे यौगिक पाए जाते है जिनसे हमे काफी फायदे होते है लेकिन इसका सेवन नियमित मात्रा से अधिक करने पर उल्टा प्रभाव भी देखने को मिलता है इसीलिए इसका सेवन भी निश्चित मात्रा में करना चाहिए।

आशा है आपको इस आर्टिकल में कोको पाउडर के जुड़ी कुछ नए जानकारी मिली होगी जो शायद ही आपको पता होगी।

यदि आपके घर में कोई कोको पाउडर का इस्तमाल करता है तो उन्हें जरूर बताये की इसका इस्तमाल निश्चित मात्रा में करे ताकि हमारी सेहत पर इसका दुष्प्रभाव न पड़े।

कोको पाउडर के इस आर्टिकल को आप अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे ताकि उन्हें भी इससे जुडी जानकारी का पता हो।

कृपया शेयर करे !