सदाबहार के फूल के बारे में आपने सुना ही होगा, यह मंदिर में चढ़ाये जाना वाला फूल है सदाबहार का पौधा दिखने में बहुत ही साधरण सा होता है लेकिन सम्पूर्ण पौधा औषधी गुणों से भरा हुआ है इसके इस्तमाल से कई तरह के रोग ठीक किए जा सकते है। और इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि यह पौधा बहुत आसानी से सभी जगह मिल जाता है

सायद आप ये जानना चाहेगे की इस पौधे को सदाबहार क्यों कहा जाता है?

इसे सदाबहार का पौधा इसलिए कहा जाता है क्योकि यह पौधा साल के 12 महीने फूल देता है इसलिए इसे बारह मासी, सद्पुष्पा और नयनतारा के नाम से भी जाना जाता है।

सदाबहार का पौधा एक ऐसा पौधा है जो आसानी से सभी जगह उगाया जा है, यह छोटी झाड़ी के रूप में होता है इसलिए इसे आप घर में छोटे से गमले में लगा सकते है।

इसके पत्ते लम्बे अंडाकार और चिकने होते है सदाबहार के फूल पांच पंखुड़ी वाला सफेद, गुलाबी और जामुनी कलर के होते है और इसके फल एक फल्ली के जैसे होते है इसके फल और पत्ते की सतह चिकने होने के कारण वाष्पीकरण कम होता है।

यह पौधे की सामान्य जानकारी और पहचान की बात हो गई। चलिए अब सदाबहार पौधे औषधीय गुणों के बारे में जानते है।

सदाबहार डायविटीज में लाभकारी है

diabetes

डायविटीज के मरीजों के शरीर में शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है जिसके कारण शरीर की रोग प्रीतिरोधक छमता कम हो जाती है और डायविटीज के मरीज को और भी कई सारी बीमारिया होने लगती है। ऐसे लोग कई तरह की दवाओं इस्तमाल करते है ऐसे में आपको कुछ घरेलू उपाय करने चाहिए।

डायविटीज मरीजों को सदाबहार के फूल और टहनी को तोड़ कर मिक्सी में पीस कर रस निकाल कर ले, अब रस का खाली पेट सेवन करे और बचे हुए मटेरियल को भी आप खाने से पहले खाली पेट चटनी बना कर खा सकते है चटनी बनाने के लिए आप इसमें थोड़ी से मिर्ची और सेंधा नमक का इस्तमाल करे।

यदि आप इतना सब नहीं कर सकते है तो आप रोज सुबह उठकर शौच के बाद चार पत्ते थोड़े और चवा – चवा कर खाये और ऊपर से आधा गिलास पानी पीले इससे भी बहुत आराम मिलेगा।

यदि आप ऊपर दिये गए टिप्स अपनाते है तो आपके शरीर का रक्त चाप नियंत्रित होने लगेगा और प्रतिरोधक तंत्र मजबूत हो जायेगा और आप 15 दिन बाद शुगर लेवल टेस्ट करवा ले आपको बहुत फायदे मिलेगा।

कैंसर में सदाबहार बेहद लाभकारी है

कैंसर एक ऐसा रोग जिसमे शरीर के कोशिकाएं धीरे – धीरे नष्ट होने गलती है जिससे कैंसर से पीड़ित व्यक्ति कमजोर होने लगता है। यदि कोई व्यक्ति कैंसर के पहले स्टेज पर है तो सदाबहार में ऐसे औषधी गुण पाए जाते है जिनसे क्षतिग्रस्त हुई कोशिकाएं भी ठीक हो जाती है और रोग को बढ़ावा देने वाली कोशिकाओं को नष्ट कर देती है।

कैंसर होने पर रोगी को इसके पत्ते की चटनी बनाकर सुबह शौच के बाद खाली पेट खिलाये जिससे रोगी की प्रतिरोधक छमता बढ़ जाएगी और रोग को फ़ैलाने वाली कोशिकाओं को धीरे – धीरे नष्ट भी होने लगेंगी जिससे रोगी को बहुत आराम मिलेगा और उसके जीवन की अवधी भी बढ़ जाएगी।

रक्तचाप को नियंत्रित करता है

यदि आपके घर में या आपको ब्लडप्रशेर की प्रॉब्लम है और आप दवाइया खा खा कर परेशान हो गये है, तो आप अब आपको कुछ घरेलू उपाय करने चाहिए जैसे यदि आपके पास सदाबहार का पौधे है तो आप एक पौधे की जड़ को निकल कर सुबह खाली पेट ब्रश करने के बाद जड़ को दांतो से चबा – चबा कर रस निकल कर चूसते जाये ऐसा आपको 15 दिनों तक करना है आपको निश्चित ही बहुत आराम मिलेगा।

यदि आपके घर में इसके पौधो को लगाने के लिए जगह नहीं है तो आप इसे गमले में, पानी की बाल्टी में या टप में लगा सकते है, इसे लगाने के लिए जरूरी नहीं काली मिट्टी ही हो यदि आपके भूरी या थोड़ी लाल मिट्टी हो तो भी ये पौधे लग जाते है आप जिस भी बर्तन में पौधे को लगाए उड़े थोड़ी सी धूप बस जरूर होती है।

फोड़े फुंसी और घाव को ठीक करता है

Wounds

यदि आपको फोड़े फुंसी या घाव है तो आप इसके पत्तो को कुचल कर लेप बना ले और फिर घाव वाले स्थान पर लगा दे जिससे घाव जल्दी सुख जाएगा और घाव की जगह जल्दी भर जाएगी।

यदि आपको फोड़े फुंसी है और वह पक नहीं रहे तो आप इसके पत्ते और टहनी को कुचल कर नारियल का तेल मिला कर फोड़े वाले स्थान पर लगाए इससे वह जल्दी पक जायेगा और मवाद भी जल्दी बाहर निकल जाएगी साथ ही घाव जल्दी सुख जायेगा।

खाज खुजली को घर में कैसे ठीक करे

यदि आपको बहुत पुरानी खाज खुजली है तो आप इसके पत्तो का लेप बना कर खाज के स्थान पर लगाए। इसका लेप आप दिन में दो वार लगाए ऐसा करने से खुजली तो बंद हो ही जाएगी साथ ही खाज भी जल्दी ही साफ हो जाएगी, यदि आपको अभी खाज खुजली हुई है तो भी आप इसका इस्तमाल कर सकते है।

एलर्जी और शरीर में हुए लाल निशान को ठीक करे

यदि आपको किसी भी तरह की एलर्जी है जैसे लाल निशान तो आप सदाबहार के पत्ते तोड़ने पर निकले रस को एकत्रित करके रख ले और इसका इस्तमाल एलर्जी वाले स्थान पर दिन में दो बार करे बहुत जल्द आप एलर्जी से राहत पा लेगे।

मुँहासे ठीक करने में उपयोगी

आप मुहासो से बहुत परेशान है आप बहुत सारे साबुन, क्रीम और फेसबॉस का इस्तमाल भी किये है लेकिन किसी से भी कोई भी असर नहीं पड़ा है, तो आप अब अपनाये ये आसान घरेलू उपाए आजमाए बस सदाबहार के फूल और पत्ते को पीस को एक चुटकी हल्दी में मिला कर मुँहासो पर इसे दिन में दो बार लगाए ऐसा करेने से आपके चेहरे पर हुए मुँहासे बहुत जल्द साफ हो जायेगे और आपकी त्वचा बहुत ही चिकनी और चमकदार हो जाएगी।

बवासीर को होने पर सदाबहार से इलाज करे

बवासीर में कैसे पाए राहत

यदि आपको बवासीर है और आप किसी को नहीं बता पा रहे है तो आप रात के समय इसके पत्तो को पीस कर सोने पहले बवासीर स्थान पर लगा ले, यदि सुबह और शाम दोनों समय लगा सकते है तो आपको और भी जल्दी आराम मिलेगा।

पुराने समय में घरेलू उपाय करके ही रोगो को दूर किया जाता था।

मधुमखी, ततैया या किसी भी विषैले कीड़े के काटने पर उपयोगी

poisonous place

जब भी आपको मधुमखी या ततैया ने काटे और आपको लाल निशान है या अभी भी उसका डंक आपकी त्वचा में लगा है या आपको उस स्थान पर खुजली हो रही है तो उस स्थान पर आप इसके फूल का रस या पत्ते को तोड़ने पर निकले रस को प्रभावी स्थान पर लगा दे

ये भी जाने :-

आशा है सदाबहार की जानकारी आपको पसंद आयी होगी।

सदाबहार से संबंधित किसी प्रश्न के लिए कमेंट करे।

यदि यह जानकारी पसंद आयी है तो इसे अपने दोस्तों रिस्तेदारो के साथ शेयर जरूर करे।