दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में आप रसोई में इस्तमाल की जाने वाली दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में जानेगे।

हमारी किचन में इनती सारी सामग्री होती है जिनमे से हमे कुछ के ही नाम अंग्रेजी और हिंदी में पता होते है कुछ हिंदी में पता होते है तो अंग्रेजी में पता होते और अंग्रेजी में पता होते है तो हिंदी में पता नहीं होते है ऐसे में बाजार जाने पर सामग्री की खरीदारी करने में दिक्कत होती है ऐसे में आप सभी तो नहीं कहना चाहिए लेकिन जिन खाद्य या सामग्री को हम रोज घर में इस्तमाल करते है कम से कम उनका नाम तो हमें हिंदी और अंग्रेजी दोनों में पता होना चाहिए।

इस पोस्ट के माध्यम से आप बच्चो को भी कुछ दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में सिखाने के साथ उनकी फोटो दिखा कर उन्हें उसे परिचित करा सकते है।

हम इस पोस्ट में आपको दालों के नाम के साथ उनकी पहचान और उनमे पाए जाने वाले पोषक तत्व के बारे में बतायेगे तो चलिए दालों के नाम और पहचान करना शुरू करते है।

दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में

दालों के नाम हिंदी में दालों के नाम अंग्रेजी मेंअंग्रेजी में उच्चारण
मूंग हरी दालGreen Gram Splitग्रीन ग्राम स्प्लिट
मूंग पिली दालMoong yellow Dal/Skinned Dalमूंग येलो दाल/ स्कन्नेड दाल
मोठ दाल/साबुत मूंगGreen Gram/Whole Beansग्रीन ग्राम /व्होले बीन्स
सोयाबीनSoyabeanसोयाबीन
सेमLima Beans/Vaal Dalलिमा बीन्स/वाल दाल
कुल्थी दालHorse Gramहॉर्स ग्राम
काली मसूरLentilलेंटिल
मसूर की दालRed Lentilरेड लेंटिल
काला चनाBlack chickpeasब्लैक चिकपीस स्प्लिट
चना दालChickpeas Splitचीखपाद स्प्लिट
छोला/काबुली चनाChickpeas Splitचिकपीस स्प्लिट
साबुत उड़दBlack Gramब्लैक ग्राम
अरहर की दाल/तुअर दालRed Gram/Pigeon peaरेड ग्राम/ पिजन पी
उड़द की धुली दालUrad Dal White Lentil/Urad Dal Skinnedउरद दाल वाइट लेंटिल/ उरद दाल स्कन्नेड
उड़द की दाल/काली दालBlack Gram Splitब्लैक ग्राम स्प्लिट
मटर दालMatar Dalमटर दाल
लोबिया/सफ़ेद राजमाBlack-Eyed Pea/Black eyed Beansब्लैक ग्राम स्प्लिट/ ब्लैक आइड बीन्स
राजमाKidney Beans, Beansकिडनी बीस, बीन्स
हरी मटरGreen Peasग्रीन पीज
सूखी मटर/सफ़ेद मटरDry Peas/White Peasड्राई पीज/ वाइट पीज

ये तो हो गए दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में अब मैं आपको प्रत्तेक दाल में पाए जाने वाले पोषक तत्व और उसकी पहचान करती हूँ।

दाल में पाए जाने वाले पोषक तत्व

  1. मूंग हरी दाल
मूंग हरी दाल

मूंग दाल में फाइबर प्रोटीन का अच्छा स्रोत है इसीलिए डॉक्टर तबियत खराब होने पर मूंग दाल खाने की सलाह देते है।

मूंग की दाल में कार्बोहाइड्रेड, वासा, आयरन, कैल्शियम और विटामिन भरपूर मात्रा में पाए जाते है।

इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व के कारण हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है ब्लड प्रेशर मेंटेन रहता है शुगर को कंट्रोल करता है।

2. मूंग पिली दाल

मूंग पिली दाल

बिना छिलके वाली मूंग की दाल को पिली दाल कहा जाता है बीमार व्यक्ति द्वारा छिलके वाली दाल से पिली दाल को पचाना आसान होता है।

बिना छिलके वाली मूंग की दाल में आयरन, फाइबर, प्रोटीन और विटामिन बी कॉम्पकलेस अधिक मात्रा में पाए जाते है इसके अलावा इसमें विटामिन, कैल्शियम और पोटेशियम भी पाया जाता है।

3. मोठ दाल/साबुत मूंग

मोठ दाल/साबुत मूंग

साबूत मूंग दाल अंकुरित खाने पर हमारे शरीर को बहुत सेहत मंद होती है क्योकि मूंग दाल को अंकुरित करने पर इसमें कार्बोहाइड्रेड आयरन, विटामिन, कैल्शियम, प्रोटीन डबल हो जाते है।

4. सोयाबीन

सोयाबीन

सोयाबीन को प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है इसीलिए जिम जाने वाले लोग सोयाबीन को रोज किसी न किसी तरह के व्यंजन के रूप जरूर खाते है।

प्रोटीन के अलावा इसमें मिनलर, विटामिन, खनिज तत्व, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन ई और एमिनो एसिड पाया जाता है ये सारे पोषक तत्व मिल कर हमारे शरीर की वृद्धि करने के साथ मजबूत बनाते है।

5. सेम

सेम

सेम की दाल का सेवन करने से बहुत अच्छे फायदे होते है सबसे पहला तो ये की यह रक्त को साफ करती है जिससे अनेक बीमारिया दूर होती है साथ हमारी त्वचा भी साफ रहती है।

सेम में मुख्य रूप से थायमिन, पैथोथेनिक एसिड और विटामिन बी 6 पाया जाता है।

6. कुल्थी दाल

कुल्थी दाल

कुथली दाल को सुपर फ़ूड के नाम से भी जाना जाता है क्योकि इसमें आयरन, कैलोरी, विटामिन, जैसे थियामिन,राइबोफ्लेविक और नियासिन जैसे पोषक तत्व पाए जाते है।

इसके अलावा इसमें कार्बोहाइड्रेड, प्रोटीन, फाइबर अधिक मात्रा में पाए जाते है।

7. काली मसूर

काली मसूर

काली मसूर की दाल में कैल्शियम, आयरन, पोटेशियम और विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाए जाते है।

मसूर की दाल शरीर के लिए बहुत ही सेहतमंद होती है इसके सेवन से हमारे शरीर में फेट जमा नहीं होता है शुगर कंट्रोल रहती है इसके अलावा सेहत को सुरक्षित रखती है।

मसूर की दाल के सेवन से हड्डिया मजबूत होती है क्योकि इसमें मैग्नीशियम कैल्सियम और फास्फोरस भी अधिक मात्रा में होता है।

8. मसूर की दाल

मसूर की दाल

मसूर बिना छिलके वाली दाल में कोलेस्ट्रॉल शून्य मात्रा में होता है इसीलिए इसके सेवन करने से हमारा वजन नहीं बढ़ता है।

कोलेस्ट्रॉल के साथ-साथ इसमें कैलोरी, वसा, फाइबर, कार्बोहाइड्रेड, सोडियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम और 1.8 ग्राम चीनी होती है।

9. काला चना

काला चना

भारत में मुख्य रूप से गेहू और चने की खेती की जाती है काले चने को देशी चने के नाम से भी जाना जाता है।

काले चने को रोज सुबह खाली पेट खाने से अनेक फायदे होते है जैसे एनीमिया से बचाव होता है, पाचन क्रिया ठीक तरह से कार्य करती है एक्ने ठीक हो जाते है शुगर लेवल कंट्रोल होता है इसे खाने से ज्यादा समय तक भूख नहीं लगती है आदि।

काले चने में फोलेट, आयरन, फास्फोरस, कॉपर, मैगनीज, फाइबर और प्रोटीन अधिक मात्रा में पाए जाते है।

10. चना दाल

चना दाल

चने की दाल डायबिटीज के मरीज को बहुत लाभकारी होती है इसके सेवन से शुगर लेवल कम होता है।

चने की दाल में मुख्य रूप से जिंक, कैल्शियम, प्रोटीन और फोलेट अधिक मात्रा में होता है जो हमारे शरीर के लिए सेहतमंद होता है।

11. छोला/काबुली चना

छोला/काबुली चना

काबुली चने में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन बी 6, प्रोटीन, फाइबर, मैग्नीशियम सेलेनियम और आयरन पाया जाता है।

काबुली चने का नियमित सेवन करने से भूख पर कंट्रोल किया जा सकता है रोग प्रति रोधक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है खनिज लवणों की कमी को पूरा किया जा सकता है। इसका सेवन आप सालाद के साथ कर सकते है।

12. साबुत उड़द

साबुत उड़द

काली उड़द की दाल में प्रोटीन, आयरन, कार्बोहाइड्रेड के अलावा पोटेशियम, फाइबर, कैलोरी और सोडियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

काली उड़द दाल को अंकुरित करके खाने से शारीरिक शक्ति बढ़ती है, वजन बढ़ता है मूत्र सबंधित समस्याओ से निजात मिलता है शुक्राणु को बढ़ाया जा सकता है इसके सेवन सांस की परेशानी होने पर लाभ मिलता है।

13. अरहर की दाल/तुअर दाल

अरहर की दाल/तुअर दाल

अरहर की दाल में फोलिक एसिड और आयरन भरपूर मात्रा में होता है इसके अलावा इसमें कार्बोहाइड्रेड और कैल्शियम भी होते है।

गर्भवती महिला को डॉक्टर द्वारा इसे खाने के सलाह दी जाती हैं क्योकि अरहर की दाल में कैल्सियम और आयरन बच्चे के शरीर के विकास में सहायक होते है।

14. उड़द की धुली दाल

उड़द की धुली दाल

उड़द की धुली दाल में वही पोषक तत्व पाए जाते है जो साबुत दाल में पाए जाते है इसके छिलके हटा देने से खनिज तत्व की मात्रा कम जाती है।

15. उड़द की दाल/काली दाल

उड़द की दाल

छिलके वाली काली दाल में भरपूर मात्रा में मैग्नीशियम, खनिज तत्व, कैल्शियम, पोटैशियम, मैगनीज और कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है।

16. मटर दाल

मटर दाल

मटर की दाल में पाए जाने वाले पोषक तत्व हमारे शरीर को अनेक बीमारियों से बचाता है मटर और मटर की दाल में मुख्य रूप से मैगनीज, कॉपर, जिंक, आयरन के अलावा एंटी ऑक्सीडेंट पाया जाता है जो हमारे शरीर की रोग प्रति रोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करता है।

17. लोबिया/सफ़ेद राजमा

 लोबिया/सफ़ेद राजमा

राजमा को दाल के रूप में खाया जाता है इसमें एंटी ऑक्सीडेंट गुण और आयरन, जिंक, कार्बोहाइड्रेड, प्रोटीन और विटामिन बी 9 पाया जाता है।

18. राजमा

राजमा

लाल राजमा दिखने में किडनी के जैसा होता है इसे भी दाल और सब्जी के रूप में सेवन किया जाता है जिस तरह से सफेद राजमा में आयरन, प्रोटीन, विटामिन, फास्फोरस, मैग्नीशियम, कार्बोहाइड्रेड और एंटी ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते है।( राजमा दाल की खेती कैसे करे )

19. हरी मटर

हरी मटर

हरे मटर में एंटी ऑक्सीडेंट पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है इसे खाने से हमारे शरीर में रोग प्रति रोधक क्षमता बढ़ती है जिससे हमारा शरीर कई सारी बीमारियों से दूर रहता है।

Also Read :

यह थे दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में आशा है आपको कुछ नई दालों के नाम पड़ने को मिले होंगे।

दाल में पाए जाने वाले पोषक तत्व हमारे शरीर को बहुत जरूरी होते है इसलिए बच्चो को 6 महीने बाद माँ का दूध बंद करके दाल का पानी देना शुरू किया जाता है।

जब कोई व्यक्ति बीमार होता है तो डॉक्टर के द्वारा दाल का परहेज करने को कभी नहीं कहा जाता है क्योकि डॉक्टर जानते है जो काम दवाइया नहीं कर सकती वह काम दाल कर सकती है इसीलिए इसे दाल पीने की सलाह हमारे बुजुर्ग भी देते है।

दाल भारत के मुख्य खाद्य में से है सभी छोटी बड़ी पार्टी में खाने के मेन्यू में दाल को जरूर शामिल किया जाता है।

कृपया शेयर करे !

Leave a Comment