Thank you for bing here

अदरक क्या है इसका वैज्ञानिक नाम, फायदे और नुकसान

अदरक खाने के 15 फायदे

इस पेज पर अदरक से संबंधित जानकारी शेयर की गई है।

अदरक में एंटी बैक्टीरियल, एंटी इंफ्लेमेंटरी और एंटी ऑक्सीडेंट वाले औषधी गुण पाए जाते है जो सर्दी जुखाम, सिरदर्द और अपचयन की समस्याओ को राहत दिलाता है।

सर्दी के मौसम में हमारे शरीर का तापमान कम रहता है इसीलिए जब हम अदरक और गुड़ की चाय, कॉफी या कोई भी सूप पीते है तो हमारे शरीर को बहुत आराम मिलता है क्योकि इसमें विटामिन डी, विटामिन ई, विटामिन ए, कैल्शियम और आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है जिससे हमारे शरीर का तापमान भी नियमित रहता है।

अदरक क्या है

अदरक मसालेदार फसल है, जिसे जिंजीबरेसी कुल में रखा गया है जो भूमि के अंदर क्षैतिज दिशा में बढ़ता है इसमें बहुत सारे पोषक तत्व पाए जाते है जिसके कारण यह मोटा होता है।

अदरक के जड़ वाले भाग का उपयोग सबसे ज्यादा भोजन और चाय बनाने में मसाले के रूप में किया जाता है।

अदरक का उपयोग केवल मसाले के रूप में ही नहीं किया जाता है इसके औषधीय गुणों के कारण ताजे, सूखे और पाउडर के रूप में उपयोग किया है, अदरक शरीर को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

अदरक का उपयोग सबसे ज्यादा सर्दी के मौसम में किया जाता है, इसकी गाँठ का इस्तमाल टुकड़ो में काट कर या कद्दूकस करके किया जाता है।

अदरक की खेती कैसे करते है

अदरक ऐसी फसल है जिसका उत्पादन किसी भी तरह की मिटटी में किया जा सकता है यदि आप अदरक की खेती लुई दोमट मिटटी में किया जाए तो उसका उत्पादन सबसे अधिक होगा क्योकि बलुई दोमट मिटटी में कार्बनिक पदार्थ की मात्रा अधिक होती है।

अदरक की खेती करने के लिए मृदा का पी एच मान 5 से 6.5 मतलब अच्छे जल निकास वाली भूमि में अदरक का उत्पादन अच्छा होता है।

भूमि का चयन करने के बाद अदरक के कंदो का चयन करना होता है जिन कंदो को खेत में लगाना हो वह 6 महीने पुराने होने चाहिए।

आपने जिन कंदो का चुनाव किया है वह 2.5 सेमी. से 5 सेम. लम्बे होने के साथ 25 ग्राम होना चाहिए, अदरक की लागत का 40 प्रतिशत भाग बीज में लग जाता है इसलिए बीज की मात्रा का चुनाव, प्रजाति, क्षेत्र और प्रकन्दों के आकार के अनुसार करनी चाहिए।

अदरक की बुआई सभी क्षेत्रो में अलग-अलग समय में की जाती है भारत में मुख्य रूप से अप्रैल और मई के महीने में की जाती है और यह दिसंबर में पूर्ण रूप से परिपक्व हो जाते है।

यदि आप जून के महीने में अदरक की बुआई करते है तो अदरक के कंद जमीन के अंदर सड़ना शुरू हो जाएगा और अकुंरण सही तरह से नहीं होगा।

यदि आप अदरक का सही उत्पादन करना चाहते है तो आप अदरक की बुआई मार्च के माह में करे मार्च के माह में बुआई करने से सबसे अच्छा उत्पादन होता है।

अदरक की बुआई करने का सबसे सही तरीका है आप उसे कूड़ या मेड विधि करके बोये, प्रत्येक प्रकंद को 5 सेमी गहरा और 40 सेमी दुरी पर लगाना चाहिए।

अदरक की बुआई करने के लिए हल्की और ढालू भूमि में रोपित किया जा सकता है प्रकंदो की बुआई करने के बाद प्रकंदो को सड़े हुई गोबर, पत्ते और मिटटी की खाद से ढक दे।

यदि आप अदरक को कतार में लगाना चाहते है तो आप प्रकंदो को 20 से 30 सेमी की दुरी पर कतार में लगा सकते है।

जिस जगह में आप अदरक का उत्पादन करना चाह रहे है और वहा पानी कम है या बिल्कुल भी नहीं है तो आप इसके उत्पादन के लिए सबसे पहले इसके प्रकंदो को नर्सरी में करे उसके बाद पौधशाला में एक महीने के लिए अंकुरण के लिए रख दीजिये।

अदरक की अच्छी फसल की लिए नर्सरी में प्रकंद की बुआई करने के बाद सड़े गोबर और मिटटी की खाद से ढक दे उसके बाद प्रत्येक दिन तैयार बीच की क्यारी पर पानी का हल्का छिड़काव करे।

जब प्रकंद अंकुरित हो जाए तो उन्हें मानसून के समय में खेतो में लगा दे।

अदरक का वैज्ञानिक नाम

अदरक का वैज्ञानिक नाम जिंजिबर ऑफ़िसिनेल है इसे सभी जगह अलग-अलग नामो से जाना जाता है जैसे हिंदी और पंजाबी में अदरक, गुजरात में आदू, बंगाली में आदा, मराठी में अले तमिल ने इल्लाम, तेलगु में आललायु और कन्नाड़ में अल्ला के नाम से जाना जाता है।

अदरक के फायदे और नुकसान

विशेषज्ञों के अनुसार अदरक बहुत ही गुण कारी औषधी पौधा है उन्ही गुणों के आधार पर ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए अदरक का सेवन किया जा सकता है क्योकि इसमें जमे हुये खून की प्रकिया, हाई ब्लैड प्रेशर, फेफड़ो की सूजन, और लिपिड को नियंत्रित करने की छमता होती है।

अदरक सालो से ह्रदय से सबंधित रोगो के उपचार के लिए उपयोग में लाया जाता है, अदरक ह्रदय को मजबूत बनाता है।

कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी कैसे करे दूर

अदरक में एंटी इंफ्लेमेंटी और एंटी कैंसर जैसे कैंसर रोधी गुण होते है ये ऐसे गुण है जिनसे महिलाओ में होने वाले गर्भाशय का कैंसर, स्तन कैंसर और लीवर कैंसर को कम करने में सकारात्मक गुण दर्शाता है।

अदरक शरीर में पैदा होने वाली कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है और शरीर में कैंसर को फैलने से रोकता है।

पेट दर्द में क्या खाये

पेट में दर्द होना आजकल एक आम बात हो गई है, क्योकि खाने पीने के तरीको में बहुत बदलाब हो गया है इसके अलावा लोग इतने आलसी हो गये है की एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए लोग दो कदम भी चलना पसंद नहीं करते है जिसकी वजय से लोगो को फूटपॉयजनिंग, ठीक से खाना न पचना, इंफेक्शन इसके अलावा कब्ज की वजय से भी पेट में दर्द होने लगता है।

अदरक में एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण पाये जाते है जिससे शरीर में पाचन रसो का उत्पादन बढ़ जाता है पाचन रस की वजय से भोजन आसानी से पच जाता है जिसकी वजय से शरीर की गैस शरीर से बाहर निकल जाती है।

आप अदरक का एक इंच टुकड़ा ले उसे छील ले और मुँह में रख कर चवा ले ऐसे में आपको तुरंत ही पेट दर्द में आराम मिलेगा।

यदि आपको कच्चा अदरक खाना पंसद नहीं है आप एक गिलास पानी ले और एक इंच अदरक के टुकड़े को क्रस कर ले अब अदरक को पानी में डाल कर तीन से चार मिनट पका ले चार मिनट बाद एक चम्मच चीनी डाले चीनी के घुलने के बाद गैस को बंद कर दे और उसे एक छन्नी से छान ले और पी ले इससे भी आपको बहुत आराम मिलेगा।

जोड़ो के दर्द मिंटो में राहत

जोड़ो में सूजन और दर्द होना गठिया रोग के प्रभाव के कारण होता है गठिया रोग होने पर जोड़ो में बहुत दर्द होता है जिसकी वजय से आपके रोजाना के काम काज पर बहुत प्रभाव पड़ता है।

यदि आप भी जोड़ो के दर्द से परेशान है तो आप रोजाना 200 ग्राम दूध में 50 ग्राम गुड़ और एक इंच अदरक के टुकड़े को छीलकर कद्दू करके दूध में मिला ले और गैस में दूध को दो उबाल आने तक पका ले अब इसे थोड़ा ठंडा होने के बाद उसे पी ले इससे आपके जोड़ो का दर्द कम हो जायेगा।

जोड़ो का दर्द सर्दी के मौसम में अधिक प्रभावित होता है जिन लोगो को जोड़ो और हड्डियों में दर्द होता है उन्हें सर्दी के मौसम में बहुत दिक्कत होती है।

जब आपके जोड़ो में मौजूद कार्टिलेज धीरे-धीरे क्षतिग्रस्त होने लगता है तो हमारे शरीर के जोड़ वाले स्थान पर जो हड्डिया आपस में जुडी होती है वो एक दूसरे से रगड़ने व घिसने लगती है जिससे हमारे जोड़ो में दर्द होता है इसलिए आपको अदरक का सेवन दूध के साथ करना चाहिए।

मासिक धर्म में पेट के दर्द को कम करता है

लड़कियों और औरतो में माहवारी आने पर पेट में दर्द और हाथ पैर में दर्द होना एक आम बात तो है लेकिन इस पेट दर्द की वजय से लड़कियों और औरतो की आधी हालत ख़राब हो जाती है जिसकी वजय से उनका किसी भी काम में मन नहीं लगता है।

पेट दर्द को कम करने के लिए आप खाने में नमक का उपयोग कम करे और चाय में अदरक, नींबू की दो से तीन बूँद अदरक का रस और शहद को मिला कर पिये इससे आपके पेट को बहुत आराम मिलेगा।

दमा जैसे रोग का करे घरेलू उपचार

यदि आप भी दमा से पीड़ित है तो आप अदरक का जूस बना ले और उसमे एक चम्मच शहद और दस मैथी के दाने डाल कर खाने से आपको सास लेने में राहत मिलेगी इसके अलावा यदि आप इसका सेवन रोज खाली पेट सेवन करेंगे तो आपको दमा जैसे रोग में राहत मिलेगी। अदरक में एंटी ऑक्सीडेंट्स पाया जाता है जो सक्रमण और जिन चीजों से हमे एलर्जी होती है उनसे लड़ने में मदद करता है।

ये सर्दी खासी में बहुत ही फायदेमंद है

मौसम में परिवर्तन के कारण हमारा शरीर बहुत प्रभावित होता है जिसका प्रभाव हमारी सेहत पर पड़ता है जिसकी वजय से अचानक सर्दी खासी या गले में खराश हो जाती है ऐसे में आप अदरक के टुकड़े को छीले और कद्दूकस करे और अब एक गिलास पानी को एक बड़े बर्तन में डाले, अब कसे हुए अदरक को पानी में डाले और अब पानी को गैस की आंच पर पांच मिनट उबाल ले, छान कर ठंडा होने पर या गर्म-गर्म पी ले इससे आपको राहत मिलेगी।

अदरक में इम्युनिटी औषधी गुण होता है जो हमारे शरीर की रोगो से रक्षा करता है।

मधुमेह से कैसे पाए छुटकारा

अधिक लोग डायविटीज से परेशान होते है क्योकि डायविटीज शरीर के लिए बहुत ही हानिकारक बीमारी है जो लोग मधुमेह की बीमारी से परेशान होते है वे अपने खान पान में हर तरह से परहेज करने लगते है जिससे कई तरह की समस्या बढ़ जाती है।

मधुमेह की वजह से भी बहुत सारी दिक्क़ते बड़ जाती है जैसे हार्ट स्ट्रोक, ब्लड प्रेसर, ब्लड शुगर और हार्ट अटैक जैसी समस्या भी हो सकती है।

इसीलिए आप अदरक की चाय बना कर सुबह खाली पेट पिये या फिर दो अदरक के टुकड़े ले और उन्हें साफ करके काट ले अब उसे रात के समय सोने से पहले पीने के पानी में डाल दे, और दुसरे दिन उसी पानी का सारे दिन सेवन करे, इस घरेलू उपयोग को आप कम से कम एक महीने तक करे आपको जरूर आराम मिलेगा।

शरीर में बड़ी कोलेस्टॉल की मात्रा को कैसे कम करे

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए कोलेस्ट्रोल की मात्रा शरीर में पर्याप्त होनी चाहिए। यदि कोलेस्ट्रॉल की मात्रा शरीर में बढ़ती है तो ह्रदय से सबंधित बीमारी बढ़ने की सम्भावना होती है यदि आपके साथ भी ऐसा ही होता है, तो आप रोज सुबह खाली पेट एक छोटी चम्मच अदरक के रस का सेवन करे।

यदि आपके पास अदरक नहीं है तो आप इसके पाउडर का इस्तमाल भी कर सकते है।

अदरक में अनेक तत्व पाये जाते है जो ब्लड में उपस्थित कोलेस्टॉल की मात्रा को कम करके ब्लड को पतला करता है जिससे हार्ट अटैक, छाती का दर्द और गले का दर्द में राहत दिलाते हुए इन रोगो को ख़त्म करता है।

माशपेशियों के लिए है बेहद लाभदायक

यदि आपको किसी भी तरह से माशपेशियों में दर्द होता है और आप कई तरह की दवाइयाँ खा चुके है लेकिन आपको बिल्कुल भी आराम नहीं मिला है तो अब आप परेशान न हो बस एक बार आजमाए ये घरेलू नुस्खा इससे आपको जरूर आराम मिलेगा है। लेकिन आप ये न समझे की बस एक बार इस्तमाल किया और तुरंत ही आराम मिल जाये। ऐसी अभी तक कोई भी दवा या कोई भी चीज नहीं बनी जिसे इस्तमाल करने से तुरंत आराम या फायदा मिल जाये बस उसी तरह अदरक है।

यहां बताये जाने वाले नुस्खे को एक से दो सप्ताह तक जरूर कीजिये और यदि आपको अदरक से एलर्जी है तो आप ये नुस्खा न करे।

दो कप पानी, एक चम्मच चाय पत्ती, एक चम्मच लेमन जूस, एक चम्मच शहद, तीन लौंग और एक चम्मच कसा हुआ अदरक ले।

अब पानी को गैस पर रख कर गर्म करे पानी के गरम होते ही पानी में बताई गई सामग्री को डाल दे और दो उबाल आते ही गैस को बंद कर दे ओर अब चाय को थोड़ा ठंडा होने रख दे जब ये ठंडा हो जाये तो छान कर इसका सेवन करे।

उलटी में कैसे राहत दिलाता है

यदि आप उल्टा सीधा खा लेने से, या प्रग्नेंसी में उल्टी या बेचैनी होती है तो आप अदरक का एक टुकड़ा ले और सीधे मुँह में दवा ले इससे आपको तुरंत ही आराम मिलेगा और यदि आप सीधे अदरक का सेवन नहीं कर सकते है तो अदरक के साथ एक लौंग को दवा ले, इससे इसका असर दो गुना बड़ जाता है। या फिर आप अदरक की चाय या अदरक को पानी में उबाल कर पिए इससे बहुत आराम मिलता है।

वजन कम करे बिना किसी मेहनत के

बदलते समय के साथ लोगो के खान पान में भी बहुत बदलाव आये है, जिसकी वजय से लोग अपने खाने पर ज्यादा गौर नहीं करते है जिससे उनके शरीर में वसा और कोलेस्टॉल की मात्रा बढ़ जाती है और लोगो का वजन बढ़ जाता है।

बड़े हुए वजन को कम करने के लिए लोग कई तरह के योग और डॉक्टरों के द्व्रारा दी गई दवाइयों का सेवन करते है लेकिन इसका भी वजन पर कोई असर नहीं पड़ता है वल्कि हमारे शरीर को कई तरह से प्रभावित करता है।

यदि आप अपना वजन कम करना चाहते है वो भी किसी मेडिशन के बिगेर तो आपको यहां बताये गए उपायों मे से बस एक उपाय करना है।

1. एक अदरक का टुकड़ा ले उसे कुचल ले और जितना पानी आप पी सके उतने पानी में कुचले हुए अदरक को मिला ले और पी जाये। यदि आपको इसका टेस्ट पसंद न आये तो अदरक वाले पानी में एक चुटकी नमक, नींबू का रस और शहद डाल कर पी सकते है यदि आपके पास शहद नहीं है तो न डाले बिना शहर के भी पी सकते है

2. पेट की चर्बी को कम करने के लिए अदरक वाले पानी का सेवन कम से कम दिन में दो तीन बार करे।

3. यदि आपके पास अदरक नहीं है या आपको इसका का टेस्ट पसंद नहीं है तो आप अदरक के पाउडर का भी इस्तमाल कर सकते है आपको आधे चम्मच पाउडर में एक चम्मच शहद और एक गिलास पानी में घोल कर पी लीजिये, इससे आपके पेट की चर्बी जल्दी कम हो जाएगी।

4. यदि आपके पास ताजा अदरक है तो आप अदरक का सूप बना कर भी सकते है ये वजन घटाने में ज्यादा मदद करेगा।

त्वचा के लिए बेहद असरदार है

त्वचा के दाग धब्बे मस्से और मुहासे से आजकल लोग बहुत परेशान है क्योकि इनकी वजय से हमारा शरीर बदरगा और सिकुड़ा सा हो जाता है लोग इन सब से झुटकारा पाने के लिए कई तरह की मेडिसन, क्रीम, साबुन और फेसवॉश का इस्तमाल करते है लेकिन इन सब से कोई फर्क नहीं पड़ता है इसीलिए आज यहां में आपको एक अचूक नुस्खा लाई हूँ, जिसका इस्तमाल करके आप अपनी त्वचा बहुत ही चमकदार और बेदाग हो जाएगी तो चलिए जानते है।

अदरक में ऐसे औषधी गुण जिससे आपकी बढ़ती उम्र की गति के साथ त्वचा पर आई झुर्रियों से झुटकारा दिलाता है और त्वचा को कसाव देता है इसके सेवन से त्वचा में लचीलापन आता है जिससे आप ज्यादा उम्र के होते हुए भी कम उम्र के लगते है

अदरक में उपस्थित एंटी सेप्टिक तत्व केवल आपकी त्वचा साफ नहीं करेगा बल्कि यह अंदर जा कर हमारी त्वचा को नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया को गहराई तक जा कर जड़ से ख़त्म कर देता है आप अदरक के रस को प्रभावी स्थान पर लगाए साथ ही अदरक का सेवन करे इससे आपको ज्यादा फायदा होगा।

यदि आपको मस्से है तो आप अदरक को थोड़ा सा काट कर मस्से के ऊपर 5 से 6 मिनट के लिए रख दे, ऐसा आपको दिन में दो बार करना है ऐसा करने से मस्से सिकुड़ जायेगे।

यदि आपके फेस पर दाग धब्बे है तो आप अदरक का स्क्राव बना कर फेस पर लगाए स्क्राव बनाने के लिए, एक चम्मच अदरक का रस, गुलाब जल आधा चम्मच और एक चम्मच शहद मिला कर फेस पर स्क्रेव करे इससे आपकी त्वचा पर से दाग धब्बे तो चले ही जायेगे साथ ही फेस पर चमक भी आ जाएगी।

अदरक बालो के लिए कैसे लाभकारी है

अदरक में मैग्नीशियम, फास्फोरस और पोटेशियम होता है जो हमारे बालो को बड़ाने में बेहद मददगार होते है जिससे आप अपने बालो को झड़ने से तो रोक सकते है इसके आलावा बालो को लंबा और चमकदार भी बनाते है।

आप अदरक को अपने बालो पर नारियल के तेल में कस कर मिलाये और लगाए इससे आपके बाल झड़ने भी बंद हो जायेगे और लंबे और घने हो जायेगे।

अदरक

कैसे करे इन्फेक्सन दूर

अदरक में एंटी बैक्टीरियल गुण होते है जिससे गले का इंफेक्स और सूजन दूर हो जाती है, आप अदरक के एक चम्मच रस को गुनगुने पानी में मिला कर गरारे ले इसे आपके गले की खरास दूर हो जाएगी और इन्फ़ेक्सन भी दूर हो जायेगा।

ये भी जानिए 

इस पोस्ट में आपको अदरक क्या है अदरक का वैज्ञानिक नाम, अदरक को खाने के फायदे और नुकसान और खेती कैसे की जाती है ये सब बताया है आशा है आपको पोस्ट पसंद आई होगी।

यदि आपको पोस्ट पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे।

Comments · 1

Leave a Reply

*

Thank you for bing here